Diploma Notes

learn diploma and engineering study for free

  1. Home
  2. /
  3. Electronics and Communication
  4. /
  5. हाइड्रोमीटर क्या होता है? | हाइड्रोमीटर के भाग | हाइड्रोमीटर से सावधानियां

हाइड्रोमीटर क्या होता है? | हाइड्रोमीटर के भाग | हाइड्रोमीटर से सावधानियां

नमस्कार दोस्तों इस लेख में हम जानेंगे कि हाइड्रोमीटर (Hydrometer) क्या होता है? तथा यह किस प्रकार कार्य करता है? इसके मुख्य भाग कौन कौन-कौन से हैं? तथा यह किस सिद्धांत पर कार्य करता है? तथा इससे जुड़े अनेक तथ्यों के बारे में जानेंगे।

हाइड्रोमीटर क्या होता है? | Hydrometer kya hai

हाइड्रोमीटर ( Hydrometer ), एक तरल की कुछ विशेषताओं को मापने के लिए एक उपकरण, जैसे कि इसका घनत्व (भार प्रति इकाई आयतन) या विशिष्ट गुरुत्व (पानी की तुलना में प्रति इकाई आयतन वजन)।

बैटरी हाइड्रोमीटर (Battery Hydrometer):- एक ऐसी युक्ति होती है जिससे बेटरी की ग्रेविटी की जांच करता है। यदि इसकी बनावट की बात करें तो इसके ऊपर एक रबर की गोलाकार बाल लगी होती है तथा आगे के हिस्से में एक रबर की नली होती है जिसे बैटरी वाटर में डुबोया जाता है।

इनके द्वारा बेटरी वाटर को ट्यूब में डाला जाता है इस ट्यूब के अन्दर पैमाने लिखे होते हैं इन्ही पैमाने के द्वारा पता चलता है कि बैटरी वाटर सही है कि नहीं। यदि पैमाना यदि 1100 से कम तथा 1300 से ज्यादा होता है तो बैटरी वाटर सही नहीं है इसे परिवर्तित करना होता है।

हाइड्रोमीटर क्या होता है? | हाइड्रोमीटर के भाग | हाइड्रोमीटर से सावधानियां
Testing of Battery Hydrometer

किसी भी बैटरी की जांच के लिए कुछ उपकरणों का उपयोग किया जाता है जिससे बेटरी की उम्र तथा क्षमता के बारे में जान सकें। हाइड्रोमीटर भी एक ऐसा ही उपकरण होता है जो बेटरी के पानी (chemical) की जांच करता है इस जांच को बेटरी की “ग्रेविटी की जांच” कहा जाता है।

Also Read: मल्टीमीटर क्या है? What is multimeter in hindi

हाइड्रोमीटर के भाग | Hydrometer ke bhag

बेटरी वाटर के भाग निम्नलिखित हैं –

हाइड्रोमीटर के भाग | Hydrometer ke bhag
हाइड्रोमीटर के भाग | Hydrometer ke bhag
  1. गतिशील चूषण (Dynamic suction) – Bulb
  2. टिकाऊ प्लास्टिक आवरण (Durable plastic casing)
  3. मजबूत मुहर (Tight seal)

गतिशील चूषण (Dynamic suction)

सससे उपरी हिस्सा एक रबर की बाॅल की तरह होता है जिसे दबाने से बेटरी का वाटर हाइड्रोमीटर में आता है। तथा पानी को बाहर करने के लिए भी इसे तो तब तक दबाया जाता है जब तक कि सारा पानी बाहर न चला जाय।

टिकाऊ प्लास्टिक आवरण (Durable plastic casing)

मध्य भाग सफेद प्लास्टिक से बना होता है। जिसके बाहरी हिस्सा चेम्बर तथा अन्दर फ्लोएट रहता है। चेम्बर में पानी (Betttery water) आता है इसके अन्दर पैमाना लगा होता है इस पैमाने में तीन लेवल होते हैं – निम्नतम (1000), मध्यम(1200), अधिकतम (1300) इन्हीं के अनुसार बेटरी वाटर के गुणवत्ता का मापन किया जाता है।

मजबूत मुहर (Tight seal)

सबसे नीचे वाले भाग में एक रबर की नली होती है जो हाइड्रोमीटर तक पानी पहुंचाने का कार्य करती है।

Also Read: मल्टीमीटर क्या है? What is multimeter in hindi

हाइड्रोमीटर का मूल्य | हाइड्रोमीटर Price | Hydrometer ki kimat

किसी भी वस्तु का मूल्य उसकी गुणवत्ता के अनुसार होती है। अगर हम हाइड्रोमीटर की बात करें तो इसका मूल्य 150 रूपए से 5000 रुपए तक हो सकता है। इसके मूल्य में अन्तर की सबसे बड़ी वजह इसके अन्तर प्रयुक्त होने वाले पैमाने के कारण होता है।

सस्ते हाइड्रोमीटरों में एक कांच की नली का प्रयोग किया जाता है जबकि महंगे वह अच्छे हाइड्रोमीटरों में एक एनालॉग मीटर का प्रयोग किया जाता है जिसमें शुद्ध मान को आसानी से पढ़ा जा सकता है।

हाइड्रोमीटर से सावधानियां | Hydrometer se sawariya

बेटरी हाइड्रोमीटर का प्रयोग करते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए –

  1. सबसे पहले हाइड्रोमीटर की सफाई करनी चाहिए।
  2. हाइड्रोमीटर की अच्छे से जांच करनी चाहिए तथा यह देखना चाहिए कि इसके अन्दर बेटरी वाटर न हो अन्यथा यह सही रिडिंग नहीं बता सकता है।
  3. मुहर को बेटरी वाटर में डुबोने से पहले गतिशील चूषण को दबाना चाहिए।
  4. एक टर्मिनल की जांच के पश्चात दूसरे टर्मिनल की जांच तब तक नहीं करनी चाहिए जब तब कि प्लास्टिक आवरण से सारा पानी बाहर न निकल जाए तथा मुहर की अच्छे से सफाई न की जाए।
  5. इसे आग दूर रखना चाहिए।
  6. इसके गतिशील चूषण पर किसी प्रकार का कट नहीं होना चाहिए।

ऑटोमोबाइल में हाइड्रोमीटर टेस्ट का क्या उपयोग है?

आमतोर में हाइड्रोमीटर ( Hydrometer ) का इस्तेमाल एक बैटरी सेल के चार्ज की स्थिति का परीक्षण करने के लिए हाइड्रोमीटर का उपयोग किया जाता है। हाइड्रोमीटर परीक्षण आमतौर पर बैटरी की स्थिति का परीक्षण करने के लिए प्रयोग किया जाता है। यह इलेक्ट्रोलाइट के घनत्व को मापने के द्वारा किया जा सकता है, जो इलेक्ट्रोलाइट के विशिष्ट गुरुत्व को मापकर पूरा किया जाता है।

सल्फ्यूरिक एसिड की सांद्रता जितनी अधिक होगी, इलेक्ट्रोलाइट उतना ही सघन होगा। घनत्व जितना अधिक होगा, आवेश की स्थिति उतनी ही अधिक होगी।

एक हाइड्रोमीटर आमतौर पर कांच से बना होता है, और इसमें एक बेलनाकार तना और एक बल्ब होता है जिसे पारा या लेड शॉट के साथ भारित किया जाता है ताकि यह सीधा तैर सके। परीक्षण के लिए तरल को एक लंबे कंटेनर में डाला जाता है, अक्सर एक स्नातक सिलेंडर, और हाइड्रोमीटर को धीरे से तरल में तब तक उतारा जाता है जब तक कि यह स्वतंत्र रूप से तैरता न हो।

जिस बिंदु पर द्रव की सतह हाइड्रोमीटर के तने को छूती है, वह विशिष्ट गुरुत्व से संबंधित होता है। हाइड्रोमीटर में आमतौर पर तने के अंदर एक पैमाना होता है, ताकि इसका उपयोग करने वाला व्यक्ति विशिष्ट गुरुत्व को पढ़ सके। विभिन्न संदर्भों के लिए विभिन्न प्रकार के पैमाने मौजूद हैं।

बैटरी हाइड्रोमीटर क्या काम करता है?

बेटरी हाइड्रोमीटर बेटरी वाटर की गुणवत्ता की जांच करता है।

हाइड्रोमीटर किस सिद्धांत पर कार्य करते हैं?

हाइड्रोमीटर आर्कमिडीज के भीड़ के सिद्धांत पर कार्य करते हैं।

बैटरी हाइड्रोमीटर का मूल्य कितना होता है?

बेटरी हाइड्रोमीटर का मूल्य उसके प्लास्टिक आवरण में प्रयुक्त पैमाने के अनुसार होता है। जोकि 150 रूपए से 5000 रूपए तक होता है।

Also read

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *