Diploma Notes

learn diploma and engineering study for free

  1. Home
  2. /
  3. Power Engineering
  4. /
  5. मल्टीमीटर क्या है? What is multimeter in hindi

मल्टीमीटर क्या है? What is multimeter in hindi

नमस्कार दोस्तों इस लेख में हम जानेंगे कि मल्टीमीटर क्या है? ( What is multimeter) यह कितने प्रकार के होते हैं? इनका प्रयोग कहां किया जाता है तथा इससे जुड़े हुए अनेक तथ्यों के बारे में जानेंगे?

मल्टीमीटर (multimeter) एक ऐसी युक्ति (device) है जिससे हम विद्युत गुणों ( वोल्टेज मापन, धारा मापन, प्रतिरोध मापन) का मापन करते हैं। क्योंकि मल्टीमीटर धारा, प्रतिरोध, वोल्टेज तीनों का मापन करता है अर्थात् यह वोल्टमीटर, अमीटर, ओममीटर तीनों युक्तियां का काम करता है इसलिए इसे वोल्ट-ओम-अमीटर भी कहा जाता है। तथा कुछ मल्टीमीटर तापमान का मापन भी किया जाता है।

एनालॉग मल्टीमीटर में रीडिंग देखने के लिए एक मूविंग बिन्दु के साथ एक माइक्रोमीटर का उपयोग करते हैं। डिजिटल मल्टीमीटर (DMM, DVOM) में एक ऐसी डिस्प्ले प्रयोग की जाती है जिसमें संख्या होती हैं और एनालॉग मल्टीमीटर को अप्रचलित बना दिया है क्योंकि वे एनालॉग मल्टीमीटर की तुलना में कम दाम में प्राप्त हो जाते हैं तथा इनकी बोडी अधिक मजबूत होती है इसलिए यह अधिक टिकाऊ होती हैं।

Also Read: Best branch in polytechnic for future in hindi

मल्टीमीटर के भाग –

यदि मल्टीमीटर के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करनी है तो हमें इसके प्रत्येक भाग के बारे में जानना पड़ेगा। मल्टीमीटर के भाग निम्नलिखित हैं –

  • डिस्प्ले/डायल पैनल
  • लाल प्लग
  • काला प्लग
  • साॅकेट
  • बेटरी
  • रोटरी

डिस्प्ले/डायल पैनल –

यह मल्टीमीटर का मुख्य भाग होता है जिस राशि का मापन हो रहा होता है उसकी रिडिंग प्रदर्शित करता है। डिजिटल मल्टीमीटर में डिस्प्ले प्रयोग होती है तथा एनालॉग मल्टीमीटर में डायल पैनल का प्रयोग किया जाता है।

लाल तथा काला प्लग –

यह मल्टीमीटर में प्रयोग होने वाली दो तार होती है जो पर पहली लाल (+) तथा दूसरी काली (-) होती है। यह युक्ति को मल्टीमीटर से जोड़ने का कार्य करती हैं। इसमें लाल तार को धनात्मक टर्मिनल से तथा काली तार को ऋणात्मक टर्मिनल से जोड़ा जाता है।

बेटरी –

यह मल्टीमीटर का सबसे अहम भाग है क्योंकि जिस प्रकार वाहन को चलाने के लिए ईंधन की आवश्यकता होती है तथा मनुष्य को चलने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है उसी प्रकार मल्टीमीटर को चलाने के लिए बेटरी की आवश्यकता होती है। डिजिटल मल्टीमीटर के लिए 9V तथा एनालॉग मल्टीमीटर के लिए 3V की बेटरी का प्रयोग किया जाता है।

रोटरी –

यह भी मल्टीमीटर का अहम हिस्सा होता है क्योंकि यह एक ऐसा भाग होता है जो डिस्प्ले या डायल पैनल को यह बताता है कि किस राशि ( धारा, वोल्टेज, प्रतिरोध, तापमान आदि) का मापन करना है। जिस राशि का मापन करना होता है रोटरी को उसकी इकाई (Volt, Ohm, Amp, °C) पर घुमा लेते हैं। यह उसी राशि को डिस्प्ले या डायल पैनल पर दिखाता है।

मल्टीमीटर का वर्गीकरण

इसमें हम जानेंगे कि मल्टीमीटर कितने प्रकार के होते हैं तथा विभिन्न मल्टीमीटर में क्या अंतर होता है? मल्टीमीटर का वर्गीकरण बहुत ही आसान होता है इसे निम्न प्रकार से वर्गीकृत किया जा सकता है –

  • एनालाॅग मल्टीमीटर
  • डिजिटल मल्टीमीटर

एनालाॅग मल्टीमीटर (Analog multimeter)

Analog multimeter
एनालॉग मल्टीमीटर

एनालॉग मल्टीमीटर जैसा कि नाम से स्पष्ट हो रहा है कि इसमें एनालॉग प्रणाली का उपयोग किया जाता है। इस मल्टीमीटर के भाग भी उपर्युक्त लिखे गए भागों (डायल पैनल, रोटरी, लाल व काला प्लग, साॅकेट, बेटरी) के समान ही होते हैं लेकिन इसमें डायल पैनल पर लिखी रिडिंग एकदम सही नहीं बतायी जा सकती है क्योंकि इसमें सुई का प्रयोग किया जाता है जो एकदम एक स्थान पर स्थिर नहीं होती है जिसमें शुद्ध मान नहीं मिल पाता है। इसलिए इसका उपयोग कम हो गया है।

डिजिटल मल्टीमीटर (Digital multimeter)

Digital multimeter
डिजिटल मल्टीमीटर

इस मल्टीमीटर के भाग भी उपर्युक्त लिखे गए भागों (डिस्प्ले, रोटरी, लाल व काला प्लग, साॅकेट, बेटरी) के समान ही होते हैं। यह मल्टीमीटर वर्तमान समय में बहुत अधिक उपयोग में लाया जा रहा है। क्योंकि इसमें राशियों का मापन सरलता से किया जा सकता है इसमें डिस्प्ले का प्रयोग होता है तथा डिस्प्ले में अंक लिखे होते हैं जिन्हें पढ़ना आसान होता है। तथा यह हमें शुद्ध मान बताता है यह दशमलव के दो स्थानों तक आसानी से मान बता देता है। तथा बहुत महंगा भी नहीं होता है इसलिए इसका उपयोग अधिक से अधिक किया जा रहा है।

मल्टीमीटर का मूल्य –

किसी भी मल्टीमीटर का मूल्य उसके आकार, प्रयोग किया गया मेटीरियल, गुणवत्ता के अनुसार होता है। वे पोर्टेबल हैंडहेल्ड डिवाइस या अत्यधिक सटीक बेंच उपकरण हो सकते हैं। यदि हम सस्ते मुल्य वाले मल्टीमीटर की बात करें तो इसका मूल्य 50 अमेरिकन डोलर हो सकता है लेकिन अगर हम अधिक टिकाऊ तथा एक अच्छे मल्टीमीटर की बात करें तो इसका मूल्य 5000 अमेरिकी डॉलर हो सकता है।

मल्टीमीटर का उपयोग –

मल्टीमीटर का प्रयोग विद्युत गुणों की जांच करने में किया जाता है –

  1. विद्युत परिपथ में धारा मापन, प्रतिरोध मापन तथा वोल्टेज मापन में किया जाता है।
  2. मल्टीमीटर का उपयोग तार की जांच करने में किया जाता है।
  3. तापमान मापन में भी मल्टीमीटर का उपयोग किया जा सकता है।

multimeter का मूल्य कितना होता है?

मल्टीमीटर का मूल्य 50 USD to 5000 USD होता है।

मल्टीमीटर क्या काम करता है?

मल्टीमीटर धारा, वोल्टेज, प्रतिरोध और तापमान का मापन करता है।

Also Read: What to do after polytechnic in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *