Diploma Notes

learn diploma and engineering study for free

  1. Home
  2. /
  3. About Polytechnic
  4. /
  5. पॉलिटेक्निक क्या हैं? इसमें क्या सिखाया जाता है? What is polytechnic taught?

पॉलिटेक्निक क्या हैं? इसमें क्या सिखाया जाता है? What is polytechnic taught?

नमस्कार दोस्तों, इस लेख में हम जानेंगे पालिटेक्निक (Polytechnic) में क्या सिखाया जाता है? पॉलिटेक्निक ( Polytechnic ) एक टेक्निकल कोर्स होता है, जो डिप्लोमा कोर्स होता है यह एक काफी बेहतरीन कोर्स है जिसे 10th या 12th पास करने के बाद में कर सकते हैं। पॉलिटेक्निक का मतलब ही होता है इंजीनियरिंग मे डिप्लोमा होता है। इस कोर्स के अंतर्गत कई विभाग (Branch) की पढ़ाई (Study) कराई जाती है। पोलिटेकनिक एक तीन वर्षीय Diploma होता है। जिसमें प्रोद्योगिकी शिक्षा का अध्ययन कराया जाता है।

पालिटेक्निक में बहुत सारे विभाग होते हैं विभाग के अनुसार ही हमें पढ़ाया जाता है या हम कह सकते है कि उसी हमें तैयार किया जाता है सर्व प्रथम यह जानना जरूरी है कि पालिटेक्निक में कितने विभाग होते हैं या कौन कौन से विभाग होते हैं।

पॉलिटेक्निक क्या हैं इसमें क्या सिखाया जाता है What is polytechnic taught
पॉलिटेक्निक क्या हैं इसमें क्या सिखाया जाता है What is polytechnic taught

पालिटेक्निक के विभाव (Department of Polytechnic)

पालिटेक्निक में विभिन्न विभाग होते हैं जो निम्नलिखित हैं –

  1. Civil
  2. Electrical
  3. Electronic
  4. Mechanical
  5. Chemical
  6. Computer science
  7. Information technology
  8. Fesion Designing

उपर्युक्त्त तालिका में विभिन्न विभागों के नाम बताए गए हैं इन्ही विभाग के अनुसार हमें परिशिक्षित किया जाता है अब मैं आपको प्रत्येक विभाग के बारे में बताता हूं।

Civil

इस विभाग में हमें construction के बारे में बताता जाता है जैसे कि मकानों का निर्माण, पुलों का निर्माण, अन्य विभिन्न प्रकार के भवनों को कैसे तैयार किया जाता है। तथा इन्हें बनाने के लिए प्रयुक्त सामग्री कितनी चाहिए तथा हर एक हिस्से को अच्छी तरह कैसे प्रयोग किया जाए। इत्यादि के बारे में बताया जाता है।

Electrical

इस विभाग में हमें Power Generation, Transmission, Distribution बारे में बताता जाता है जैसे कि विद्युत ऊर्जा का निर्माण कैसे करते हैं। तथा इसे घरों तक कैसे पहुंचाते हैं कौन सी तार का प्रयोग कंहा करना है। तथा घरों में अच्छी वायरिंग कैसे की जाती है। इत्यादि विद्युत शक्ति से जुड़ी बातों के बारे में बताया जाता है।

Mechanical

इस विभाग में हमें गाड़ियां कैसे बतनी है, किसी कार्य को आसानी से मशीनों के द्वारा कैसे किया जाता है, आदि के बारे में बताया जाता है

सबसे अच्छा संस्थान (Best Insititude) कौन सा है?

पालिटेक्निक में दो प्रकार के संस्थान होते हैं।

  1. सरकारी संस्थान जिसमें दाखिला लेने के लिए JEEP की परीक्षा उत्तीर्ण करनी पड़ती है।
  2. तथा दुसरा प्राइवेट संस्थान होते हैं जिनमें दाखिल होने के लिए कोई परीक्षा नहीं देनी पड़ती है।

उत्तराखण्ड में बहुत सारे सरकारी तथा प्राइवेट संस्थान है किन्तु हम बात करेंगे सबसे अच्छे संस्थानों की। जो निम्नलिखित हैं –

  1. Govt. Polytechnic Srinagar garhwal (Pauri) – यह संस्थान एक सरकारी संस्थान है जिसमें दाखिला आसानी से नहीं मिलता है। क्योंकि यह U.K का No.1 संस्थान है। इसमें दाखिला लेने के लिए JEEP Exam में अच्छी रैंक लानी पड़ती है।
  2. K.L. Polytechnic Roorkee (Haridwar) – यह संस्थान placement के लिए सबसे अच्छा माना जाता है इस संस्थान में देश के कोने-कोने से कम्पनी आती है। तथा इन्टरव्यू लेती है तथा नौकरी देती है।
  3. Govt. Polytechnic Kashipur (U.s.nagar)
  4. Govt. Polytechnic Pithuwala (Dehradun)
  5. Govt. Polytechnic Narendra Nagar (Tehri garhwal)

पालिटेक्निक के बाद नौकरी (job after polytechnic)

जब हम अन्तिम सेमेस्टर में होते हैं तो संस्थान में कम्पनियों नौकरी देने के लिए आती हैं किन्तु कम्पनियां सभी को नौकरी नहीं देती है। तथा कुछ लोग प्राइवेट में नौकरी नहीं करते हैं या करना नहीं चाहते तो वह Polytechnic complete करने के पश्चात हमें अपने डिपार्टमेंट में आयी अधिशासी अभियंता (Junior engineer) की वेकेंसी (सरकार द्वारा) का इन्तजार करना पड़ता है। और परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात नोकरी मिलती है। जिसकी सेलेरी 50,000 – 60,000 ₹ प्रति माह होती है। अथवा प्राइवेट कंपनियों में साक्षात्कार द्वारा भी नौकरी मिलती हैं। किन्तु शुरुआत में अच्छा पैसा नहीं मिलता है हमें। एक से दो साल मन लगा के काम सिखना चाहिए उसके पश्चात हमें अच्छा पैसा मिलता है।

Read more. पॉलिटेक्निक पूरा करने के बाद, IIT कैसे करें?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *