Diploma Notes

learn diploma and engineering study for free

  1. Home
  2. /
  3. About Polytechnic
  4. /
  5. पॉलिटेक्निक का समाज के विकास में क्या सहयोग है? What is the contribution of polytechnic in the development of society?

पॉलिटेक्निक का समाज के विकास में क्या सहयोग है? What is the contribution of polytechnic in the development of society?

नमस्कार दोस्तों इस लेख में हम जानेंगे कि पालिटेक्निक करने के बाद इंजीनियर्स का समाज में करता योगदान होता है? सरकार इन्हें क्या सुविधाएं उपलब्ध कराती है? इनको कितना वेतन मिलता है? तथा इनके द्वारा किये जाने वाले कार्यों के बारे में जानेंगे।

सर्वप्रथम यह जानना जरूरी होगा कि पालिटेक्निक क्या है? तब हम समझेंगे कि इसकी क्या भूमिका है। तो जैसा कि आप लोग जानते होंगे कि “पालिटेक्निक एक तीन वर्षीय या दो वर्षीय कोर्स है जिसमें हमें प्रोद्योगिकी से जोड़ा जाता है अर्थात हमें तकनीकी शिक्षा दी जाती है।” किसी भी समाज को विकास के मार्ग पर लाना है तो उस समाज के लोगों का शिक्षित होना अनिवार्य होता है। क्योंकि एक शिक्षित व्यक्ति ही अच्छे और बुरे की अच्छी समझ रखता है। और समाज के विकास में सहायक होता है।

What is the contribution of polytechnic in the development of society
What is the contribution of polytechnic in the development of society

पालिटेक्निक की भूमिका –

पालिटेक्निक में तकनीकी शिक्षा दी जाती है जिस शिक्षा को इंजीनियरिंग की पढ़ाई कहते हैं तथा पढ़ने वाले को इंजीनियर कहते हैं। किसी भी देश के विकास में इंजीनियर की सबसे अधिक भूमिका होती है। एक इंजीनियर्स ही किसी भी काम को सही ढंग से करने तरीका बताता है, तथा उसे आसान करने के लिए मशीनों का निर्माण, तथा काम को करने में प्रययुक्त सामाग्री तथा उसके ढांचे को तैयार करता है। तथा हमारी हर एक काम को आसान बनाने के लिए मशीनें उपलब्ध कराता है।

पालिटेक्निक करने के पश्चात इंजीनियर का योगदान –

किसी भी कम्पनी में प्रयोग होने वाली मशीनों का निर्माण तथा मजदूरों को उसे चलाने का काम एक इंजीनियर करता है। जिससे कम्पनी में अधिक से अधिक उत्पादन होता है और अधिक उत्पादन होने से अधिक रोजगार होता है। सरकार को अधिक टैक्स मिलता है जिससे देश की अर्थव्यवस्था में सुधार होता है।

सरकार के साथ सहयोग –

सरकार के साथ विकास में इंजीनियर का सबसे बड़ा सहयोग होता है। इसीलिए सरकार प्रत्येक वर्ष SSC के द्वारा पालिटेक्निक इंजीनियर के लिए वेकैन्सी निकालती है और Exam कराती है। और सेलेक्शन होने के पश्चात इन्हे 50,000 – 60,000 हजार सेलेरी देता है। तथा उन्हें रहने के लिए 2BHK set देती है।

सरकार द्वारा JE (सरकारी इंजीनियर्स) से कराते जाने वाले कार्य –

  1. सरकारी भवनों का निर्माण (जैसे – सरकारी कर्मचारियों के क्वाटरों (घर) का निर्माण, रेलवे स्टेशन पर होटल, माॅल, कोलेजों का निर्माण, अस्पतालों का निर्माण, सरकारी धर्मशाला का निर्माण, विद्यालयों का निर्माण, अन्य सरकारी भवनों का निर्माण) इंजीनियर्स कराते हैं।
  2. बिजली उत्पादन (इसके अतिरिक्त Substation, Poles, Transmission line and Distribution lines का निर्माण भी इन्ही के द्वारा किया जाता है।) कार्य इंजिनियर द्वारा किया जाता है।
  3. रेलवे मार्ग (इसके अतिरिक्त रेल का निर्माण भी इन्ही के द्वारा किया जाता है) के निर्माण का कार्य इंजिनियर द्वारा किया जाता है।
  4. सड़को के निर्माण (इसके अतिरिक्त वाहनों का निर्माण भी इन्ही किया जाता है।) का कार्य इंजिनियर द्वारा किया जाता है।
  5. जल विमान, थल विमान, वायु विमान के निर्माण का कार्य इंजिनियर द्वारा किया जाता है।

उपरोक्त तथ्यों के अतिरिक्त इंजीनियर्स अन्य कार्य भी करते हैं। जैसे कि विभिन्न मशीनें का निर्माण जिससे हमारा समय तथा रूपए की बचत होती है। इंजीनियर्स का समाज बहुत भूमिका होती है। इसीलिए सरकार ने इंजिनियर के नाम एक दिन किया है इसे विश्वकर्मा पूजन या Engineer’s Day के रुप में मनाया जाता है।

Govt JE की कितनी सेलेरी होती है?

किसी भी विभाग में सरकारी इंजीनियर्स की सेलेरी बहुत ही अच्छी होती है जो कि लगभग 50 हजार रुपए से 60 हजार रुपए प्रति माह होती है।

किस विभाग में je की प्रति बर्ष सरकारी नौकरियों आती है?

सरकार प्रति बर्ष युवा युवतियों को रोजगार देना चाहती है किन्तु प्रत्येक विभाग में प्रति बर्ष नौकरी देना संभव नहीं होता है। लेकिन सरकार SSC JE प्रति भर्तियां खुलाती है।

Read more. 12वीं के बाद पॉलिटेक्निक एक अच्छा विकल्प है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *