Diploma Notes

learn diploma and engineering study for free

  1. Home
  2. /
  3. Electronics and Telecommunication Engineering
  4. /
  5. पेंचकस क्या है? What is a screwdriver in hindi?

पेंचकस क्या है? What is a screwdriver in hindi?

नमस्कार दोस्तों इस लेख में हम जानेंगे कि पेंचकस (screwdriver) क्या होता है? इसका उपयोग कहां किया जाता है? यह कितने प्रकार के होते हैं? इससे जुड़ी अनेक प्रकार के तथ्यों के बारे में जानेंगे।

पेंचकस (Screwdriver)

पेंचकस (Screwdriver) हस्त चालित उपकरण है जिसका उपयोग मेन्युअल या पावर्ड, स्क्रू को चलाने में किया जाता है। अगर एक साधारण पेंचकस की बात करें तो इसमें एक कठोर स्टील की शाफ्ट तथा प्लास्टिक या लकड़ी का हेंडल होता है इसमें शाफ़्ट को पहले स्क्रू के हेड में लगाया जाता है फिर उपयोगकर्ता के द्वारा घुमाया जाता है। पेंचकस के इस रूप को कई कार्यस्थल में प्रयोग किया जा रहा है जैसे कि घरों में कार्य को आसानी से करने के लिए अधिक आधुनिक और पावर्ड स्क्रूड्राइवर का प्रयोग किया जा रहा है। इसके द्वारा हम कहीं पर छेद भी कर सकते हैं।

Screwdriver
Screwdriver

यदि हम शाॅफ्ट के धातु की बात करें तो इसको आमतौर पर झुकने या मुड़ने से बचाने के लिए कठोर स्टील से बनाया जाता है तथा इसके हेंडल को प्लास्टिक या लकड़ी से बनाया जाता है क्योंकि स्क्रूड्राइवर को विद्युत विभाग में इसका प्रयोग किया जाता है इससे करेंट नहीं लगता है।

पेंचकस के भाग –

इसमें हम जानेंगे कि पेंचकस को कितने हिस्सों से जोड़कर बनाया जाता है। कौन सी धातु तथा कौन सी अधातु का प्रयोग किया जाता है। किसी भी पेंचकस में मुख्यत: तीन भाग होते हैं जोकि निम्नलिखित हैं –

  • ब्लेड
  • शैंक
  • हेंडल

ब्लेड –

यह पेंचकस का सबसे आगे का भाग होता है इसे स्क्रू के हेड में लगाया जाता है और फिर स्क्रू को घुमाया जाता है।

शैंक –

यह ब्लेड के बाद का भाग होता है जो स्टील का बना होता है यह कठोर तथा चालक होता है।

हेंडल –

यह पेंचकस का अधात्विक भाग होता है जो सामान्यतः लकड़ी या प्लास्टिक का बना होता है

पेंचकस के प्रकार (Type of screwdriver)

किसी वस्तु का वर्गीकरण उसके आकार, कार्य क्षमता तथा उसकी संरचना के अनुसार किया जाता है। यदि हम पेंचकस की बात करें तो इसका वर्गीकरण इसकी नोंक (nidile) के अनुसार किया जाता है इसकी अनेक प्रकार की नोंक होती है। वैसे तो इसकी निडिल १४ प्रकार की होती है तथा उन्हीं के अनुसार इसका नामकरण भी किया जाता है।

कुछ पेंचकस निम्नलिखित हैं –

  1. प्लस निडिल स्क्रूड्राइवर
  2. माइनस निडिल स्क्रूड्राइवर
  3. हेक्सागोनल निडिल स्क्रूड्राइवर

प्लस सुई (फिलिप्स) पेचकश –

यह एक ऐसा स्क्रूड्राइवर है जिसकी निडिल आगे चपटी होती है तथा पीछे गोल होता है और उसके लकड़ी का हेंडल होता है इस प्रकार के स्क्रूड्राइवर प्लस स्क्रूड्राइवर कहते हैं। इसको पहले स्क्रू के हेड पर लगाया जाता है और फिर उसके बाद उसको घुमाया जाता है और स्क्रू निकल जाता है।

माइनस निडिल (स्लॉट) पेचकश –

यह एक ऐसा स्क्रूड्राइवर है जिसकी निडिल आगे क्राॅस (like star) बना होता है तथा पीछे गोल होता है और उसके लकड़ी या प्लास्टिक का हेंडल होता है इस प्रकार के स्क्रूड्राइवर प्लस स्क्रूड्राइवर कहते हैं। इसको पहले स्क्रू के हेड पर लगाया जाता है और फिर उसके बाद उसको घुमाया जाता है और स्क्रू निकल जाता है।

हेक्सागोनल निडिल स्क्रूड्राइवर –

यह एक ऐसा स्क्रूड्राइवर है जिसकी निडिल आगे का हिस्सा स्टार की तरह तथा पर बना होता है तथा पीछे गोल होता है और उसके लकड़ी या प्लास्टिक का हेंडल होता है इस प्रकार के स्क्रूड्राइवर प्लस स्क्रूड्राइवर कहते हैं। इसको पहले स्क्रू के हेड पर लगाया जाता है और फिर उसके बाद उसको घुमाया जाता है और स्क्रू निकल जाता है।

इस प्रकार के पेंचकस को निम्न भागों में विभाजित किया गया है –

  • हेक्स निडिल
  • हेक्स सॉकेट
  • सुरक्षा हेक्स सॉकेट

पेंचकस का प्रयोग –

पेंचकस का प्रयोग अनेक रूपों में किया जाता है कुछ प्रयोगों का वर्णन निम्न लिखित हैं –

  1. पेंचकस मुख्य कार्य पेंच को घुमाने का होता है।
  2. पेंचकस का प्रयोग टेस्टर के रूप में भी किया जा सकता है।
  3. पेंचकस का उपयोग दिवार पर छेद करने में भी किया जाता है।
  4. विद्युत विभाग में भी पेंचकस का उपयोग किया जाता है जैसे – इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के पेंच खोलने में, धारा प्रवाह को देखने में, लकड़ी के बोल्ड (जिसमें ऑन ऑफ स्विच, प्लग, संकेतक लगे होते हैं) को दिवार में लगाने में, आदि में प्रयोग किया जाता है।

सावधानियां –

  • यदि विद्युत विभाग में इसका प्रयोग किया जा रहा हो तो सदैव ही इसके हेडल को पकड़ने चाहिए।
  • पेंच को घुमाते समय सदैव ही इसको सीधा रखना चाहिए।
  • प्रयोग करते समय नौक को खुद से दूर रखना चाहिए।

पेंचकस क्या काम करता है?

पेंचकस का मुख्य कार्य स्क्रू को चलाना होता है।

Also read. What to do after polytechnic in hindie .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *